Thursday, February 18, 2010

जिस प्रकार पुत्र माता-पिता की छवि होता हैं उसी प्रकार हम सभी उस परम तत्व की प्रतिबम्बित छवि ही हैं अर्थात हम सभी प्राणी ईश्वर का अंश है और उसका परम स्वरूप हम अपने अतःकरण में महसूस करते हैं।

1 comment: